Thursday, February 14, 2019

अपना स्टार्ट अप डिजाइन करें इंटीरियर डिजाइनर के रूप में ।




क्या आप एक घर के अंदर के डिजाइन और रंग देखना पसंद करते हैं ? क्या आप घर में विभिन्न चीजों के व्यवस्थापन का निरीक्षण करते हैं ? कैसे रोशनी की व्यवस्था की जाती है वो आपका रुचि का विषय है ? क्या आपको लगता है कि आप किसी मकानको बेहतर तरीके से पुनर्व्यवस्थित कर सकते हैं ? यदि सभी चार उत्तर हां हैं, तो आपके अन्दर एक इंटीरियर डिजाइनर है।




विकिपीडिया के अनुसार, इंटीरियर डिजाइन, मकानके अंदरकी स्पेस का उपयोग करने वाले लोगों के लिए एक स्वस्थ और अधिक सौंदर्यप्रद मनभावन वातावरण प्राप्त करने के लिए एक इमारत के इंटीरियर को बढ़ाने की कला और विज्ञान है । यह न केवल सजावट के बारे में है, बल्कि डिजाइन, सजावट और भी बहुत कुछ है । भारत में, आंतरिक डिजाइनरों की कमी है यानिकी भारी मांग है । लेकिन, यह समझें कि यह न केवल एक ऑफिसमें बैठे रहेके करनेका काम है और न ही उतना आसान है जितना आप सोच रहे होंगे ।

भारत में प्रसिद्ध इंटीरियर डिजाइनरों में प्रेम नाथ, शबनम गुप्ता, राजीव सैनी और लिपिका सूद शामिल हैं।





इंटीरियर डिजाइनर होने के लिए औपचारिक शिक्षा की आवश्यकता नहीं है। लेकिन, भारत में विभिन्न संस्थान हैं जो इंटीरियर डिजाइन पढ़ाते है जैसे की राष्ट्रीय डिज़ाइन संस्थान, अहमदाबाद, C. E. P. T. यूनिवर्सिटी, गुजरात, आर्क एकेडमी ऑफ़ डिज़ाइन, जयपुर, J. J. स्कूल ऑफ़ आर्ट्स, मुंबई, कॉलेजऑफ़ आर्किटेक्चर, नाशिक, एक्सटीरियरइंटिरियर्स प्राइवेट लि., कोलकाता, वोगइंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, बंगलौर, पर्ल एकेडमी, दिल्ली आदि ।




इंटीरियर डिजाइनर कितना कमाता है ? वेबसाइट Payscale द्वारा दिया जाने वाला औसत वेतन रु 2,97,956/- है, जो रु 1,20,0000/- से रु 7,20,000/- प्रतिवर्ष रुपये की सीमा में है । वेबसाइट Glassdoor रु 3,86,914/- औसत वेतन बताता है। । लेकिन, यदि आप एक स्वतंत्र इंटीरियर डिजाइनर हैं, तो 3 बेड, हॉल, किचन मकान के लिए, आपकी फीस रु 10,000/- से 10 लाख हो सकती है । 10,000 वर्ग फुट के कमर्शियल स्पेस की फीस 1.5 करोड़ तक भी पहुंच सकती है । विभिन्न फ़ीस के फैक्टर्स जो भिन्न होते हैं उनमे ग्राहकों की आवश्यकताएं और प्राथमिकताएं, सामग्री की लागत, श्रम शुल्क, रोशनी, सौदा प्रकार, अनुभव, अंतरिक्ष का आकार आदि समाविष्ट है । यह सब आपकी मांग, कौशल और नेटवर्क पर निर्भर करता है। इंटीरियर डिजाइनरों को स्टाफ शुल्क, साइट विज़िट शुल्क, ड्राइंग प्रिंट और करोंको फ़ीस में से बाद करनी होगी। कुल मिलाकर, एक इंटीरियर डिजाइनर के लिए कमाई के रूप में एक बड़ी राशि मिल शकती है।

जंच रहा है  ?

किसके लिए इंतजार कर रहे हो  ?

शुभकामनाएँ....

आगे बढ़ें....


No comments:

Post a Comment