Wednesday, February 13, 2019

मूवी समीक्षक / आलोचक : काम ही मजा !.


कितने आदमी थे ? बाबू मोशाय ...., लड़की आँख मारे...., बस तुम ही हो...., वो मृत्यु को मरने जा रहा हु में...

क्या उपरोक्त शब्द परिचित हैं ? तो आगे पढ़ते है....

क्या आप फिल्मों के प्रशंसक हैं ? क्या आप नियमित रूप से फिल्में देखते हैं ? आप किसी फिल्म से ऊब नहीं रहे हैं ? क्या आप विभिन्न द्रष्टिकोण से फिल्में देखते हैं जैसे वीडियोग्राफी, संवाद, नृत्य, संगीत, संदेश आदि ? यदि उपरोक्त चार प्रश्नों के उत्तर हां में हैं, तो आपके पास फिल्म समीक्षक / समीक्षक होने की क्षमता है।

एक फिल्म समीक्षक एक ऐसा व्यक्ति है जो फिल्मों की समीक्षा करता है, विशेष रूप से ऐसा जो पेशेवर तरीके से करता है । विकिपीडिया के अनुसार, फिल्म आलोचना फिल्मों और फिल्म माध्यम का विश्लेषण और मूल्यांकन है । फिल्म आलोचना और फिल्म समीक्षा अक्सर सामान मने जाते है । एक फिल्म की समीक्षा का मतलब उपभोक्ताओं के लिए एक फिल्म देखनेकी या न देखने की सिफारिश है, हालांकि सभी फिल्म आलोचना समीक्षाओं का रूप नहीं लेती हैं ।

सामान्य तौर पर, फिल्म आलोचना को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है: पत्रकारीय आलोचना जो समाचार पत्रों, पत्रिकाओं और अन्य लोकप्रिय जन-मीडिया आउटलेट में नियमित रूप से दिखाई देती है; और फिल्म विद्वानों द्वारा अकादमिक आलोचना जो फिल्म सिद्धांत द्वारा सूचित की जाती है और अकादमिक पत्रिकाओं में प्रकाशित होती है । अकादमिक फिल्म आलोचना शायद ही कभी समीक्षा का रूप लेती है; इसके बजाय यह फिल्म और उसकी शैली के इतिहास के भीतर, या पूरे फिल्म इतिहास का विश्लेषण करने की अधिक संभावना है ।



बॉलीवुड में, महान फिल्म समीक्षक / आलोचक में तरण आदर्श और राजीव मसंद जैसे नाम शामिल हैं। दोनों बॉलीवुड में बहोत कमाते हैं। हॉलीवुड में टॉप पर जेम्स एज और जेनेट मसलिन के नाम हैं ।





फिल्म समीक्षक या आलोचक बनने के लिए किसी प्रमाण पत्र या डिग्री की आवश्यकता नहीं होती है। कुछ संबंधित डिग्रीमें मास कम्युनिकेशन या मार्केटिंग हो सकता है। कुछ नॉन कंपल्सरी आवश्यकताओं में डायरेक्शन, वीडियोग्राफी, संपादन, संवाद, ऑडियंस पर प्रभाव, फिल्म में संदेश, संगीत, गायन, नृत्य, एंटरटेनमेंट वैल्यू आदि के बारे में सीमित ज्ञान है। समीक्षक के पास निष्पक्ष, पेशेवर और स्वीकार्य विचार होने चाहिए। वह अलग-अलग द्रष्टिकोण से फिल्म देखने वाला होना चाहिए। इन सबसे ऊपर, उसे अपने रीडर्स / दर्शकों के साथ शानदार तरीके से कम्युनिकेशन करना चाहिए।


फिल्म समीक्षक या आलोचक कितना कमाता है? औसतन, वह रु 3,97,320/- और रु 2,99,620/- से लेके  रु 4,90,063/- की रेंजमें प्रति वर्ष कमाता है । अगले पांच वर्षों में वेतन 68% बढ़ने की उम्मीद है ।







एक फिल्म समीक्षक आम तौर पर नौकरी करनेवाला या स्वतंत्र लेखक होता है। आपके पास अपना स्वतंत्र लेखन हो सकता है और इसे स्वीकृति के लिए विभिन्न मीडिया में भेज सकते हैं। आप अपना खुद का मूवी रिव्यू ब्लॉग या मूवी रिव्यू youtube चैनल शुरू करने के बारे में सोच सकते हैं। आज के सोशल मीडिया के युग में आपके अपने ब्लॉग, चैनल या किसी भी समीक्षा के लिए मार्केटिंग आसान हो जाता है ।



जंच रहा है  ?

किसके लिए इंतजार कर रहे हो  ?

शुभकामनाएँ....

आगे बढ़ें....

No comments:

Post a Comment