Saturday, February 16, 2019

ज्यादा प्रॉफिट के लिए संगीत !!!!.




क्या आपको संगीत पसंद है ? संगीत आत्मा का भोजन है । हम लगभग एक या दूसरे तरह के संगीत को पसंद करते हैं । क्या आप में संगीत है ? क्या आप किसी भी तरह के संगीत के विशेषज्ञ हैं ? यदि हाँ, तो कोई व्यवसाय आपका इंतजार कर रहा है

वेबसाइट विकिपीडिया के अनुसार, भारत में संगीत सात प्रकारों में विभाजित है

1. शास्त्रीय संगीत।
2. लाइट शास्त्रीय संगीत।
3. लोक संगीत।
4. पोपुलर संगीत।
5. जैज और ब्लूज़।
6. पश्चिमी शास्त्रीय संगीत।
7. देशभक्ति और संगीत।

शास्त्रीय संगीत को हिंदुस्तानी संगीत और कर्नेटिक संगीत में विभाजित किया गया है । लोक संगीत को आठ भागों में विभाजित किया गया है जिसमें तमांग सेलो, रबींद्र संगीत, असम का बिहू, सूफी फोक रॉक / सूफी रॉक, डांडिया, उत्ताराखंडी संगीत, लावणी और राजस्थानी संगीत शामिल हैं। लोकप्रिय संगीत में फिल्मी संगीत, गैर भारतीय संगीत, भारतीय पॉप संगीत, रॉक और मेटल संगीत और नृत्य संगीत शामिल हैं।

यदि आप उपरोक्त किसी भी संगीत को जानते हैं, तो आप संगीत शिक्षण का अपना व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। संगीत शिक्षण ऑनलाइन और ऑफलाइन भी हो सकता है।

YouTube जैसी साइट ऑनलाइन कमाई के लिए सबसे अच्छी हो सकता है। youtube आपको एक निश्चित सब्सक्राइबर संख्या और चैनल देखने की समयावधि पर विज्ञापन से प्राप्त रेवेन्यु का एक हिस्सा दे सकती है। आप अपनी खुद की वेबसाइट भी शुरू कर सकते हैं । इसके बारेमे हम किसी अन्य लेख में बात करेंगे ।

आइए हम ऑफ़लाइन संगीत शिक्षण की बात करते हैं । वेबसाइट ausmusicteachers.com.us नीचे दिए गए अनुसार संगीत व्यवसाय शुरू करने के लिए 10 सरल सुझाव देता है ।

1.प्लानिंग प्रमुख है।
2. एक घरके सेटअप पर विचार करें।
3. कुछ बेसिक नियम निर्धारित करें।
4. संदेश प्राप्त करें ।
5. हमेशा तैयार रहें ।
6. कुछ स्पिरिट दिखाएं।
7. ध्यान केंद्रित करे और आश्वस्त रहें ।
8. नोट्स लें ।
9. धैर्य रखें ।
10. हमेशा प्रगति की तलाश करें ।

वेबसाइट laurenbateman.com एक संगीत शिक्षण व्यवसाय शुरू करते समय संगीत शिक्षकों द्वारा की जाने वाली शीर्ष गलतियों की चर्चा करती है।

1. व्यवसाय में जाने के लिए सही क्षण की प्रतीक्षा करना ।
2. ऐसी वेबसाइट न होना या ऐसी वेबसाइट न होना जो आपके काम न आए ।
3. अपनी फीस कम लेना
4. अपने व्यवसाय के बारे में शब्द नहीं फैलाना ।
5. अनुचित रूप से आपके व्यवसाय का नामकरण ।
6. जरूरत पड़ने पर मदद न मिलना ।
7. अपने छात्रों से यह नहीं पूछना कि वे क्या चाहते हैं ।

एक संगीत शिक्षक कितना कमाता है ? वेबसाइट payscale ने कुछ रिसर्च किए और लिखा कि भारत में औसत संगीत शिक्षक रु 3,06,898/- प्रति वर्ष कमाते हैं। । यह कमाई रु 1,57,000/- से रु 7,60,000/- प्रति वर्ष की सीमा में है। । वेबसाइट indeed.co.in रु 20,627 / - प्रति माह औसतन लिखती है। । यह रु 8,000/- से रु 49,000/- प्रति माह की सीमा में है।

यदि आप अपना खुद का संगीत शिक्षण वर्ग शुरू करते हैं तो आप कितना कमा सकते हैं ? आप पियानो, तबला, कीबोर्ड या गिटार जैसे किसी भी इंस्ट्रूमेंट का सप्ताह में 3 दिन के लिए शिखाने के लिए लगभग रु 600 प्रति माह फीस रख सकते हैं । आप लगभग 10 छात्रों का एक बैच रख सकते हैं । इस प्रकार, यदि आप सप्ताह में 6 दिन पढ़ाते हैं, तो आप रु 12,000/- प्रति माह एक घंटे और रु 96,000/- प्रति माह आठ घंटे एक दिन के लिए कमा शकते है । कोस्टमें ऑफिसका किराया और इंस्ट्रूमेंट्स शामिल हैं । बस । यदि हम लगभग रु 12,000/- प्रति माह सभी कोस्ट गिने तो आप रु 84,000/- प्रति माह कमा शकते है । वर्ष के लिए कमाई रु 10,00,000/- ( दस लाख )

यहां ग्रोथ के चांस अच्छे हैं । संगीत सिखाने के लिए आप किसी भी स्कूल या कॉलेज या हॉबी क्लासेज से जुड़ सकते हैं । आप अपनी शाखाएं शहर या शहरों के भीतर खोल सकते हैं । मंच पर संगीत कार्यक्रम आपके लिए अतिरिक्त कमाई कर सकते हैं । यहां तक ​​कि आपको संस्थानों, संगठनों, सरकार या टेलीविजन चैनलों द्वारा आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के लिए जज होने की संभावना भी हो सकती है ।

जंच रहा है  ?

किसके लिए इंतजार कर रहे हो  ?

शुभकामनाएँ....

आगे बढ़ें....

No comments:

Post a Comment